Nag Panchami Katha in Hindi

Nag Panchami Katha in Hindi

Nag Panchami Katha in Hindi

Nag Panchami Story in Hindi

किसी राज्य में एक किसान परिवार रहता था। किसान के दो पुत्र व एक पुत्री थी। एक दिन हल जोतते समय हल से नाग के तीन बच्चे कुचल कर मर गए। नागिन पहले तो विलाप करती रही फिर उसने अपनी संतान के हत्यारे से बदला लेने का संकल्प किया। रात्रि को अंधकार में नागिन ने किसान, उसकी पत्नी व दोनों लड़कों को डस लिया।

अगले दिन प्रातः किसान की पुत्री को डसने के उद्देश्य से नागिन फिर चली तो किसान कन्या ने उसके सामने दूध का भरा कटोरा रख दिया। हाथ जोड़ क्षमा मांगने लगी। नागिन ने प्रसन्न होकर उसके माता-पिता व दोनों भाइयों को पुनः जीवित कर दिया। उस दिन श्रावण शुक्ल पंचमी थी। तब से आज तक नागों के कोप से बचने के लिए इस दिन नागों की पूजा की जाती है।

2 Responses

  1. August 17, 2015

    […] the effective Kaal Sarp dosh from your kundli. 19 August 2015, Wednesday is Nag Panchami. Know Nag Panchami Katha, puja, mantra and rituals. Seek blessings of Nag devta and stay […]

  2. August 5, 2016

    […] by offering milk- Durva, Kusha, scent, flowers, grains of rice and sweets and the read or remember nag panchami katha. On both side of the entrance door of the house, five sketches of Nag Devta should be made with Cow […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *